• Existence
    • Perception
    • Cosmos
    • Destiny
    • Totality

Beyond Mind

Search

Whoz Online

We have 28 guests and no members online

Print

Curing Depression अवसाद

अवसाद का इलाज़ Curing Depression

जब आप अपने भीतर डूबना चाहें, ऊर्जा की कमी महसूस करें, ज्यादा सोयें या बिल्कुल ना सोयें, ज्यादा खाएँ या खाना छोड़ दें, आपकी lifestyle अचानक बहुत बदलकर एकाकीपन अच्छा लगने लगे तो यह Depression के लक्षण हो सकते हैं। जब आप Depression में होंगे तो आपको अपने लोगों की बात मानने में भी मुश्किल लगेगी जो आपके हित की बात कहते हैं। आप बहुत टची हो जाएँगे। बिना आधार के भी मान सम्मान के सवाल आपके मन में उठने लगेंगे। हर बात आपको अपने स्वाभिमान पर चोट जैसी लगेगी। यही Depression है। और हम इसी से निपटने के लिये तैयार हो रहे हैं।

यह समझ लिये जाने जैसा है कि Depression आपके Conscious Mind में उपजता है। यह Depression आपके Conscious Mind का तर्क है। बस, इससे ज्यादा Depression में कुछ भी नहीं है। आपका Conscious Mind आपके चारों तरफ की सूचनाओं के आधार पर एक तर्क गढ़ देता है कि समस्या आपके बल बूते से बाहर की है और आप के बचाव का कोई रास्ता नहीं है। यह तर्क ही आपके Depression को जन्म देता है। अब यदि इस Depression से बाहर आना है, इस पर विजय पानी है तो आपको अपने इस Conscious Mind के तर्कजाल को तोड़ना होगा।

 

अपने भीतर Subconscious Mind की Energy का इस्तेमाल करना होगा। और यह बहुत आसान है। सिर्फ आपका संकल्प इसे कर सकेगा। आपको अपने Conscious Mind के तर्क को हराना होगा। इसका एक तरीका तो Labyrinth Meditation है। आप इसी चैनल Light in Life by Pratap Shree पर इसे देख सकते हैं।

दूसरा तरीका सूफियों का Whirling method है। इसमें आप एक कमरे में तब तक चक्कर काटते हैं जब तक कि आपके घूमते शरीर और उसके भीतर के स्थिर चेतन को आप अलग अलग ना देख सकें। जो चक्कर काटता है वह केवल शरीर नहीं है आपके Conscious Mind का तर्क भी है। शरीर के चकराने से आपका तर्क चकरा जाता है। वह आपका साथ छोड़जाता है। आप Subconscious Mind में प्रवेश के लिये तैयार होते हैं। लगातार घूमना आपकी मुक्ति का द्वार बन जाता है।

एक अन्य तरीका शारीरिक मुद्राओं के साथ साथ अर्थहीन शब्द बोलने का भी है। इसे पिछले विडियो में Beyond Mind Exercise No. 1 के नाम से जाना गया है। यह एक सप्ताह के अभ्यास के बाद ही आपको बहुत ऊर्जा से परिपूरित कर देती है। Depression आपके पास नहीं फटक पाएगा।

आज हम एक नयी विधि आजमाएँगे। यह Beyond Mind Exercise No. 2 कहलाएगी। इसमे साँसों की गति का उपयोग किया जाना है। पहले दो मिनट तक कोई भी शारीरिक क्रिया करें। एक ही स्थान पर तेज चलें। इससे साँसों की गति बढ़ जाएगी। हमें इस बढ़ी हुई गति का ही उपयोग करना है।

एक स्थान पर खड़े हो जाएँ। अपने वक्ष को पूरी तरह वायु से भर लें। हाथ कोहनी से मोड़कर वायुयान के पंखों जैसे फैला लें। जब पूरा वक्ष भर जाए, कोई भी वायुकोश खाली ना रहे तब पूरी ताकत से हाथों को नीचे छाती पर दबाते हुए, गले से चिंघाड़ का शब्द करते हुए पूरी छाती से वायु निकाल दें। जैसे ही पूरी वायु निकल जाए तत्काल दुबारा वायु भरें। छाती की पूरा भर लें। कुछ खाली आकाश ना रहे। और पूरा भरने के बाद फिर हाथों को नीचे छाती पर दबाते हुए, हाथी जैसी चिंघाड़ करते हुए छाती को खाली कर दें। इन चक्रों को दोहराते रहें। पहले तीन मिनट में आप इस चक्र को बिल्कुल सामान्य गति से पूरा करें। अगले तीन मिनट में चक्र पूरा करने की गति को बढ़ा दें। हर चक्र के बीच बिलकुल गैप ना रहे। चक्र निरन्तर चलें, Continuity बनी रहे। लगातार करते रहें। छह मिनटों में आप थकने लगेंगे। बस यही थकान आपका द्वार है। इस थकान में से आपको अगले 4 मिनट उठाने हैं।

इन अंतिम 4 मिनटों में आपको प्रलय ला देनी है। गज़ब ढा देना है। पागलपन की हद तक चले जाना है। आपकी बुद्धि ने जो रास्ते रोक दिये थे उन्हें खोल देना है। आपका पागलपन ही इसे खोल पाएगा। तो इन 4 मिनटों में आप गरजो, उफन जाओ, बह जाओ। प्रवाहित हो जाओ। आपके भीतर ऊर्जा के जो चैनल्स बंद हो गए हैं उनके ऊपर गहरी चोट कर डालो। आपके शरीर में जगह जगह Energy flow बंद हुआ पड़ा है। उन्हें साफ कर डालो। साँस की गति यह साफ किया जाना है। ऊर्जा के प्रवाह को सुचारू कर देना है। इन चक्रों में साँसों की भयंकर गति को प्राप्त करो।

और अंत में ढह जाओ। जहाँ हो वहीं गिर पड़ो। पहले से गद्दा बना रखना है। शरीर को चोट ना लगे। सो गिर जाओ। लेटना नहीं है। कुछ भी नियमित ना हो। धड़ाम से हो। धड़ाम से गिर जाओ। और खो जाओ। आपके शरीर के गिरते ही आपका मन Conscious Mind भी गिर जाएगा। आपकी मंजिल आ गई होगी। आप उस बिंदु को देखोगे जो आपकी बुद्धि ने पहले ढक दिया था। यही बिंदु आपका मुक्तिद्वार है। इसे अनुभव करो। इसमें खो जाओ। नींद आती है तो आ जाने दो। नींद में उतर जाओ।

जब शरीर स्वयँ उठना चाहे तब उठें। उठने पर आप स्वयं परिवर्तन को होते हुए देखेंगे। सुन या पढ़ कर ही रुक गए तो कुछ ना होगा। कर गुजरे तो जागरण हो जाएगा। Depression विलीन हो चुका होगा। आपका ऊर्जावान रूप दमक उठेगा।

पूरी विडियो YouTube के Light in Life by Pratap Shree चैनल पर उपलब्ध है। नीचे दिये लिंक को क्लिक करके आप उसे देख सकते हैं।

इसी तरह की दूसरी Videos के Updates के लिये आप इस चैनल को सब्सक्राईब कर सकते हैं।

 

 

Light in Life YouTube Videos

YOU MAY VISIT ALL THE VIDEOS OF PRATAP SHREE HERE

TOP