Print

दिखावा है मुहब्बत का किसी की ऐतबारी क्या

दिखावा है मुहब्बत का किसी की ऐतबारी क्या

     
   
     

दिखावा है मुहब्बत का किसी की ऐतबारी क्या
सभी हैं मस्त अपने में जमूरा क्या मदारी क्या

 

पठनवा ढूंडता फ़िरता लिए वो हाथ में लठवा
तू लम्बी तान के सोया, चुका दी है उधारी क्या

   
टिकटवा रेल का लेवे चढ़े है तू जहजवा में
कभी बैठा भी बसवा में अकल तेरी है मारी क्या

 

बने अंजान तुम फ़िरते मगर है पेट में दाड़ी
बनाते किसको उल्लू हो खबर हमको न सारी क्या

 

पटखनी तुमको देंगे हम गिरोगे मुहँ के बल जाकर
भला जब दावँ सीखे हैं, हमन को काम भारी क्या

पुरुषोत्तम अब्बी "आज़र"