Print

दीवाने तेरे हुस्न के मारों में खड़े हैं

दीवाने तेरे हुस्न के मारों में खड़े हैं

     
   
     

दीवाने तेरे हुस्न के मारों में खड़े हैं
तपते हुए पैरों से शरारों में खड़े हैं

तारों से फरोज़ां किये दुल्हन तेरी चूनर
हम डोली उठाए हैं कहारों में खड़े हैं

तालीम पे इस अह्द में इक आप का हक है
इस मुल्क में हम कब से गंवारों में खड़े हैं

मंदिर हो या मस्जिद ये वहाँ जंग छिड़ी है
हिंदू ओ’ मुसलमान कतारों में खड़े हैं

सूरज लिये फिरते हैं हथेली पे जो पैहम
हम आज उन्हीं रंगे सियारों में खड़े हैं

चल चल के कदम रुकते हैं हैराँ से अचानक
ये सूखे शजर कैसे बहारों में खड़े हैं

सहरा में नहीं होती किसे अब्र की चाहत
यह सोच के प्यासों की कतारों में खड़े हैं

 मज़हब के सबब आप की हम से है अदावत
जैसे कि हम अल्लाह के प्यारों में खड़े हैं
 
 जिन लोगों ने राहों से बनाए थे मरासिम
मंज़िल पे वही लोग सितारों में खड़े हैं

महसूस जिन्होंने भी किया दर्द हमारा
वो लोग तेरे मेरे सहारों में खड़े हैं 

--  प्रेमचंद सहजवाला